मुकेश अंबानी की जीवनी | Mukesh Ambani biography in Hindi


jeevangatha.com

मुकेश अंबानी का जन्म 19 अप्रैल 1957 को हुआ. उनके पिता का नाम धीरुभाई अंबानी और माता का नाम कोकिलाबेन अंबानी था. उन्हें एक छोटे भाई अनिल अंबानी और दो बहने दीप्ती सलग ओंकार और नीना कोठारी भी है. पूरा अंबानी परिवार 1970 तक मुंबई के भुलेश्वर में 2 बेडरूम के अपार्टमेंट में रह रहा था. बाद में धीरुभाई ने कोलाबा में एक 14 मंजिला अपार्टमेंट ख़रीदा जिसे “Sea Wind” कहा जाता है, जहा अब तक, मुकेश और अनिल अपने-अपने परिवार के साथ अलग-अलग मंजिल पर रह रहे थे.

Mukesh Ambani Education

उन्होंने अपने भाई और उनके सहकर्मी आनंद जैन के साथ पेद्दार रोड, मुंबई में हिल ग्रेंज हाई स्कूल में उन्होंने पढाई की. और इंस्टिट्यूट ऑफ़ केमिकल टेक्नोलॉजी, माटुंगा में उन्होंने केमिकल इंजीनियरिंग में अपनी B.E की डिग्री प्राप्त की. बाद में मुकेश ने Stanford विश्वविद्यालय से MBA करना चाहा लेकिन वे उस से अलग हो गये और रिलायंस बनाने में अपने पिता की मदद करने लगे. जो उस समय भी एक छोटी लेकिन तेज़ी से बढ़ने वाली संस्था थी.

मुकेश धीरुभाई अंबानी भारतीय व्यापर के प्रभावशाली व्यक्ति और रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) के अध्यक्ष, मैनेजिंग डायरेक्टर और सबसे बड़े शेयरहोल्डर है. रिलायंस कंपनी विश्व की 500 सौभाग्यशाली कंपनी में शामिल है और मार्केट वैल्यू के हिसाब से भारत की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी है. वो विश्व की सबसे महँगी संपत्ति एन्टीलीया बिल्डिंग में रहते है.


करियर:  

सन 1980 में जब इंदिरा गाँधी सरकार ने पी.एफ.वाई. (पॉलिएस्टर फिलामेंट यार्न) का निर्माण निजी क्षेत्र के लिए खोला तब रिलायंस ने भी लाइसेंस के लिए अपनी दावेदारी पेश की और टाटा, बिड़ला तथा 43 और दिग्गजों के मध्य लाइसेंस पाने में कामयाबी हासिल की। पी.एफ.वाई. (पॉलिएस्टर फिलामेंट यार्न) कारखाने के निर्माण के लिए धीरुभाई अम्बानी ने मुकेश को एम.बी.ए. की पढ़ाई बीच में ही बुला लिया। मुकेश अपनी पढ़ाई छोड़ भारत आ गए और कारखाने के निर्माण में जुट गए।मुकेश अम्बानी के नेतृत्व में ही रिलायंस ने भारत के सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनियों में से एक ‘रिलायंस इन्फोकॉम लिमिटेड’ (अब रिलायंस कम्युनिकेशन लिमिटेड) की स्थापना की।मुकेश ने जामनगर (गुजरात) में बुनियादी स्तर की विश्व की सबसे बड़ी पेट्रोलियम रिफायनरी की स्थापना करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। सन 2010 में इस रिफायनरी की क्षमता 660,000 बैरल प्रति दिन थी यानी 3 करोड़ 30 लाख टन प्रति वर्ष। लगभग 100000 करोड़ रुपयों के निवेश से बनी इस रिफायनरी में पेट्रोकेमिकल, पावर जेनरेशन, पोर्ट तथा सम्बंधित आधारभूत ढांचा है।रिलायंस इंडस्ट्रीज ने एक बार फिर ‘रिलायंस जिओ’ के माध्यम से दूरसंचार के क्षेत्र में कदम रखने जा रही है। इस बावत रिलायंस इंडस्ट्रीज ने अनिल अम्बानी के रिलायंस कम्युनिकेशनन्स और सुनील मित्तल के एयरटेल के साथ उनके ढांचे के इस्तेमाल के लिए करार भी किया है। जून 2014 में रिलायंस के ए.जी.एम. के दौरान मुकेश ने अगले 3 साल में 4G सेवाएं प्रारंभ करने का एलान भी किया।

निजी जीवन: 

मुकेश अंबानी स्वर्गीय धीरूभाई अंबानी और कोकिला बेन अम्बानी के पुत्र हैं। धीरूभाई अंबानी ने ही रिलायंस इंडस्ट्रीज की स्थापना की थी। मुकेश के छोटे भाई अनिल अम्बानी रिलायंस अनिल “धीरूभाई अम्बानी” समूह (ADAG) के प्रमुख हैं। यह समूह दूरसंचार, बिजली, प्राकृतिक संसाधनों, बुनियादी सुविधाओं और वित्तीय सेवाओं के क्षेत्र में सक्रीय है। धीरुभाई अम्बानी के निधन के बाद दोनों भाईयों में नहीं बनी और कहा-सुनी हुयी, जिसके बाद रिलायंस समूह दो भागों में बंट गया।मुकेश अम्बानी का विवाह नीता अम्बानी से हुआ। नीता रिलायंस इंडस्ट्रीज के सामाजिक एवं धर्मार्थ कार्यो को देखती हैं। उनके तीन बच्चे हैं – आकाश, ईशा और अनंत।मुकेश अम्बानी के परिवार का सम्बन्ध गुजरात के मोध बनिया समुदाय से है।

मुकेश अम्बानी का निवास – एंटीलिया : 

मुकेश अम्बानी अपने परिवार के साथ दक्षिण मुंबई स्थित अपने 27 मंजिली ईमारत ‘एंटीलिया’ में रहते हैं। इसे दुनिया का सबसे महंगा मकान माना जाता है। लगभग 600 कर्मचारियों का दल इस ईमारत की देख-रेख में जूता रहता है। इसके नाम अटलांटिक ओसियन स्थित इसी नाम के एक पौराणिक टापू पर रखा गया है।

मुकेश अंबानी को प्राप्त पुरस्कार :

 गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथो चित्र लेखा पर्सन ऑफ द ईयर 2007 का पुरस्कार प्राप्त किया.*. वोईस एंड डाटा पत्रिका ने 2004 में टेलिकम्यूनिकेशन्स के क्षेत्र में मैंन ऑफ द ईयर चुना गया था.*. मुकेश अंबानी को एन डी टी द्वारा साल 2007 का बिजनेस ऑफ द ईयर दिया गया.*. इंडिया टुडे मार्च – मई 2004 के अंक में The Power List में शक्तिशाली लोगो में अपनी पहचान बनाई थीं.
रिलायंस जिओ 4G रिलांयस जिओ इंफोकॉम लिमिटेड : रिलायंस जिओ भारत में मोबाइल टेलिफोन ब्रोड्बैंड सेवाओं तथा डिजिटल सेवाएँ प्रदान करने वाली कंपनी हैं. इसके अलावा यह मोबाइल, ब्रोड्बैंड और 4G सेवा माइजियो, जिओ चैट, जिओ प्ले, जिओनेट वाई-फाई प्रदान करती है. रिलायंस जिओ ने 2016 के समय बड़े पैमाने पर रिलायंस 4G सिम कार्डो का वितरण किया जो किसी भी टेलीकोम कंपनी द्वारा बनाया गया सबसे बड़ा रिकार्ड्स हैं. वर्तमान में रिलायंस जिओ ने सभी प्राइवेट और सरकारी टेलीकोम कंपनियों को पीछे छोड़ दिया हैं.
जिओनेट वाई-फाई : रिलायंस जिओ ने भारत के कई शहरो में 4जी टेलीफोन सेवा और अनेक शहरो में फ्री हॉट-स्पोर्ट सेवा दे दी है. 2016 में रिलायंस जिओ ने भारत में आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप की मेजबानी करने वाले 6 क्रिकेट स्टेडियमों में दर्शको के लिये फ्री में वाई-फाई इंटरनेट उपलब्ध कराया था. इसमें मुंबई के वानखेड़े, हिमाचल प्रदेश क्रिकेट संघ (धर्मशाला), चिन्नास्वामी (बैंगलोर), फिरोजशाह कोटला (दिल्ली) और बंगाल के ईडन गार्डन (कोलकाता) शामिल थे.
जिओ का रिकार्ड : 21 फरवरी 2017 के अनुसार जिओ ने अपने 10 करोड़ यूजर्स बना लिये थें. 21 फरवरी 2017 तक जिओ ने अपने 160 दिन पुरे कर लिये थें. संचार के क्षेत्र में भारत World में टॉप पर आ गया. रिलायंस जिओ ने अपने सर्वे में यह बताया कि यूजर्स ने प्रतिदिन 5.5 करोड़ घंटे live video देखते हुए बिताये.मुकेश अम्बानी ने जिस तरह से टेलिकॉम क्षेत्र में जिओ 4G Sim उतारकर मास्टर स्ट्रोक लगाया है, यह आने वाले समय में रिलायंस इंडस्ट्री को नये मुकामो तक पहुंचा सकता है. मुकेश अम्बानी एक बिजनेसमैन है लेकिन उन्होंने कई सामाजिक कार्य भी किये है.अपनी एक साफ़ छवि और विवादों से दूर रहने के कारण वे पूरी दुनिया में बहुत प्रसिद्ध है. आने वाले टाइम में मुकेश अम्बानी का व्यापार बहुत आगे बढ़ सकता है.


Previous article
Next article

2 Comments to

Article Top Ads

Article Center Ads 1

Ad Center Article 2

Ads Under Articles